इस राह संघर्ष लड़ रहा हूं मैं।
राहे देख रहा हूँ
सामने एक हर पल संघर्ष देख रहा हूँ।

इंसाफ की राहे देखी
मगर अपने वाले कौन है
यह पता लगा रहा हूँ।
समय-समय पर देखा
कही अपने ही बदल ना जाए।

अपनों को कुछ दे दूँ।
ये ख्याल आता है।
पर व्यवहार बाजार जो बनाया है
मैनें उसे कोई बिगाड़ ना दे
जो बिगाड़ें उसे मेरे परिवार से
हटाने कि सोच रहा हूँ मैं

अब मौका देख रहा हूँ शायद
कोई रास्ता निकल जाए
इस राह संघर्ष लड़ रहा हूं मैं।


अक्षय आजाद भण्डारी 
राजगढ़(धार) मध्यप्रदेश
9893711820


Axact

Akshaya Gaurav

hindi sahitya, hindi literature, hindi stories, hindi poems, hindi poetry, motivational stories, inspirational stories, हिन्दी साहित्य, कहानियाँ, हिन्दी कविताएँ, काव्य, प्रेरक कहानियाँ, प्रेरक कहानियाँ, व्यंग्य.

loading...

POST A COMMENT :