अब तो भारत को जागना ही चाहिए, क्योकि समाज के दुश्मन हमारी जिदंगी में मिलावट रंग घोल रहे है। हमारी जिदंगी में मिलावटखोर रंग हमारी सेहत को भंग करने में लगे है। मिलावटखोर आखिरकार चन्द पैसो के लिए जहर परोसते है लेकिन हमें आजादी मिल गयी है। जब हम देशी सब्जी-फलों ओर खाद्य पदार्थो को हम बिना भय के खाते थे। परन्तु आज वर्तमान में भय सा लगता है कि क्या खाए ना खाए, लेकिन हमारी जिम्मेदारी जैसे भारत को स्वच्छ ओर स्वस्थ्य बनाने की राह देखी लेकिन आज भारत स्वच्छ बनाने का सपना साकार हो जाये। हम एक अभियान मिलावट खोरो भगाओ सेहत बचाओ। यही हमारे देश मे पल रहे चारो ओर मिलावट का खात्मा कर हम कह पाएगें कि देश मिलावट से आजाद होकर स्वस्थ्य भारत परिकल्पना में सही दिशा बढ़ रहा है।
आज हमारे देश में हर तरफ मिलावट खोर फैले है। कही दूध कही मावा कही घी अनेक खान पान की चींजो मे जहर के जरिये हमारे सेहत को बर्बाद कर रहे है। हमारी भी सोच बदली होगी क्या आजकल जब घर पता कर सकते है कि हमारे घर पर आ रही कुछ चीजें हम खुद जांच भी कर सकते है लेकिन खाघ विभाग ओर कानून को भी। हमने देखा लेकिन कोई कारवाई मिलावटखोरो के लिए मुश्किल भरी नहीें होती है। यहाॅ तक हाथो हाथ वर्तमान समय में मिलावटी पदार्थो की जांच उसकी सामने कर उन्हे दण्डात्मक कारवाई कर सामान जब्त करना चाहिए। ना तो ऐसा कब होगा ओर हमारे मुंह मे मिलावट पदार्थ जा पहुॅचता है और सेहत पर असर डाल देता है। हम अगर मिलावटखोर को सबक सिखाने के लिए हमें सरकार को भी चेताना चाहिए ताकि जनता के सेवक हमारे लिए कितने सेवकधारी बनते है। हम आज आवश्यकता है तो हमे जागरुकता कि हम ना मिलावट खोरों को हमारे समाज अर्थात भारत में पलने देगें ना ही हम मिलावटी चींजें बाजारों में बिकने देेगें।
तभी हम जागरुक होगे तो ही भारत मिलावट खोरो से मुक्त होगा।

 


अक्षय आजाद भण्डारी 
राजगढ़(धार) मध्यप्रदेश
फोन: 9893711820


Axact

Akshaya Gaurav

hindi sahitya, hindi literature, hindi stories, hindi poems, hindi poetry, motivational stories, inspirational stories, हिन्दी साहित्य, कहानियाँ, हिन्दी कविताएँ, काव्य, प्रेरक कहानियाँ, प्रेरक कहानियाँ, व्यंग्य.

loading...

POST A COMMENT :