ए आर रहमान सूफ़ी रूट में परफॉर्म करेंगे, जो वैश्विक अंदाज के साथ शांति के लिये एक कॉन्सर्ट है
सूफी म्यूजिक और काव्य को एक अनूठा सम्मान देने के लिये हंस राज हंस और नूरान बहनें तुर्की परफॉमर्स के साथ आये, वैश्विक स्तर पर जाने की योजना

दिल्ली : संपूर्ण वैकल्पिक संगीत के अनुभव को प्रोत्साहित करने और उन्हें आगे बढ़ाने के उद्देश्य से फ्रायडे फिल्मवर्क्स, इनविज़न एंटरटेनमेन्ट और इन्वॉल्व्ड मैक्ट्रिस द्वारा सूफी रूट का निर्माण किया गया है। इसके द्वारा पहली बार, 18 नवंबर, 2017 को भारत की सबसे प्रसिद्ध इमारतों में से एक कुतुब मीनार, दिल्ली में कॉन्सर्ट का आयोजन किया जा रहा है। इसमें प्रमुख सूफी कलाकार जैसे नूरान बहनें, मुख्तियार अली, हंस राज हंस, कोन्या तुर्किश म्यूज़िक इन्सेंबल, ध्रुव सांगरी और दर्विश डांसर्स एक साथ आ रहे हैं। इस शो के फिनाले का मुख्य आकर्षण होंगे, ए आर रहमान, जो रविवार को सूफी रूट की आधिकारिक घोषणा के लिये पत्रकार सम्मेलन में उपस्थित थे।
सूफी संगीत शांति, स्वतंत्रता और विविधता की अभिव्यक्ति है। भारत में लंबे समय से आयोजित होने वाले कार्यक्रमों से यह कॉन्सर्ट कई मायनों में अलग है। सूफी रूट, भारत में पहला सूफी फेस्टिवल है, जोकि इस विधा के मूल को एक तरह का सम्मान है। इसका स्थान यूनेस्को की विश्व धरोहरों में शामिल कुतुब मीनार पर रखा गया है, जो अपने आप में इतिहास को बयां करता है। यहां पहली बार एक कॉन्सर्ट का आयोजन होने जा रहा है। पिछले काफी समय में यह पहली बार है जब दो प्राचीन और सांस्कृतिक रूप से समृद्ध सूफी संगीत की धरती- तुर्की तसौफ और भारतीय सूफ़ीवाद- इस स्तर पर एक साथ आ रहे हैं।
‘संगीत से अभिप्रेरित पीस फेस्टिवल’ के प्रमोटर्स ने इस कार्यक्रम को आगे आने वाले और वैकल्पिक संगीत और काव्य सुनने के इच्छुक लोगों को आकर्षित करने के उद्देश्य से तैयार किया गया है। साथ ही वैश्विक मंच पर इसे पहुंचाने के लिये सूफी रूट तैयार किया है, इसके अगले एडिशन में कलाकारों के तुर्की जाने की योजना है। इसके बाद यूके और यूएई में कॉन्सर्ट होंगे।
पूरी दुनिया से आये कलाकारों और परफॉमर्स के लिये दिल्ली एक प्रतिष्ठित मंच होगा और सूफी संगीत और कला के मुरीद लोगों के बीच एक वास्तविक कनेक्शन बनेगा।
एक प्रेस मीट में पत्रकारों से बातचीत और सूफ़ी रूट की घोषणा करते हुए ऑस्कर विजेता संगीतकार ए आर रहमान ने कहाए श्मेरे लिए सूफी का मतलब हमारे अन्दर मौजूद हर बुराई को मारना हैस यह प्रोजेक्ट मेरे बहुत ही करीब हैस इसके लिए मैं सूफी रूट के आयोजकों का बहुत आभारी हूँस सुफी से जो आत्मिकता और प्रेम हमें मिलता है उसे हमें बांटने की आज बहुत ज़रुरत हैस श्
शीतल भाटिया, फ्रायडे फिल्मवर्क्स, सूफी रूट की प्रमोटर ने कहा, "हम लंबे समय से दिल्ली में इस अनूठे कॉन्सर्ट को लाने के लिये कड़ी मेहनत कर रहे थे। सूफी और लोक संगीत समय से परे हैं और ये वो समय है जब इस विधा को एक मंच मिला, ताकि लोगों का ध्यान जा सके और वो इसका आनंद ले सकें। सूफी रूट के लिये हमारी कई बड़ी योजनाएं हैं और हमें पूरा विश्वास है आने वाले सालों में इसे वैश्विक मंच में शामिल कर लिया जायेगा।"


इनविज़न एंटरटेनमेन्ट के गगन टक्यार, कार्यक्रम के आयोजक व को-ओनर ने कहा, "सूफी रूट को बनाने का विचार, इसलिये आया क्योंकि संगीत की इस विधा को ऐसी ख्याति की जरूरत है। ऐसे संगीत प्रेमियों की संख्या कम होगी, जिन्होंने सूफी के गैर-मिलावटी धुनों को सुना होगा, जो वाकई में आत्मा तक पहुंचते हैं। अद्भुत कलाकारों के इस दल को एक साथ लाने को लेकर हम बेहद गर्व महसूस कर रहे हैं और काफी उत्साहित हैं। यह सपने के पूरे होने जैसा है!"
सूफी रूट के पार्टनरशिप और को-ऑनर की जिम्मेदारी संभाल रहीं, इन्वॉल्व्ड मैट्रिक्स की नर्मता सिंह ने कहा, "सार्वजनिक रूप से घोषित होने से पहले ही इस कार्यक्रम को जिस तरह का सहयोग मिला है उसको लेकर हम बेहद खुश और उत्साहित हैं। हमें उम्मीद है कि संगीत की इस जादुई विधा को सुनने के लिये हम ज्यादा से ज्यादा श्रोताओं को एकत्र कर पायेंगे।"
तारीखः 18 नवंबर, 2017
स्थानः कुतुब मीनार, दिल्ली


Axact

Akshaya Gaurav

hindi sahitya, hindi literature, hindi stories, hindi poems, hindi poetry, motivational stories, inspirational stories, हिन्दी साहित्य, कहानियाँ, हिन्दी कविताएँ, काव्य, प्रेरक कहानियाँ, प्रेरक कहानियाँ, व्यंग्य.

loading...

POST A COMMENT :