लाॅकडाउन का सफ़र – सौभाग्य श्रीवास्तव

0
29

पढ़ाई के बाद प्लेसमेंट से दूसरे राज्य के दूर एक शहर पूणे में नौकरी मिली थी। माता-पिता के साथ मैं भी बहुत खुश था। सोचा दिनभर काम करूंगा और शाम को पूणे जैसा प्रसिद्ध शहर घुमूंगें। मेरी कई इच्छाओं को पंख लग गए थे, लेकिन जल्द ही लॉकडाउन की घोषणा ने असमंजस की स्थिति में ला दिया। हमने अपने आपको समेट लिया, संभाल लिया। जैसे गीला नारियल अपना पानी स्वयं ही अंदर-अंदर सोख लेता है और सूखा गोला बनकर सुरक्षित नारियल के खोल में रहता है वैसे ही हमने भी अपनी सारी इच्छाओं को त्यागकर एक छोटी-सी खोली में अपने-आपको सुरक्षित रखने के जतन किये। ताकि अपने नही तो माता-पिता के सपने को ही साकार कर सकें।

लाॅकडाउन का सफ़र – एक ऐसा अनुभव जो सबके लिए जानना जरूरी है-

भाग 1ः निर्णय

24 मार्च से शुरू हुई तालाबंदी को लगभग 2 महीने होने को आए। मैं अपने तीन रूममेट के साथ पुणे में हमारे नए किराए के फ्लैट में रह रहा हूं। हम सभी एक ही आईटी फर्म में काम करते हैं और घर से लगातार काम कर रहे हैं। इंजीनियरिंग की श्रमसाध्य पढ़ाई के बाद नौकरी लगने की जितनी खुशी थी. वह अब हमारे चेहरे और मन से गायब होती जा रही है। हम असमंजस में घिरते जा रहे हैं। यहां रहें या घर वापसी करें। पूणे का हमारे लिये नया वातावरण और घर पर माता-पिता की चिंता ने हमें कुछ बैचेन कर रखा था और घर से फोन आने पर मम्मी-पापा को सब ठीक है ये अर्धसत्य बोलने के लिए विवश भी कर रखा था।

जैसे सिर मुड़ाते ओले पड़ने वाली कहावत हमारे लिये ही लिखी हो। चूंकि हम मार्च के पहले सप्ताह में यहां आए थे, इसलिए हम पर्याप्त घरेलू सामान नहीं जुटा पा रहे थे। हमारे पास न बेलन था या ही रोटी बेलने का अन्य सामान हमने गिलास से इस दौरान रोटियां बेलीं और हीटर पर किसी तरह कच्ची-पक्की रोटियां सेंककर खाईं। सब्जी बनाने के लिए भी सामान पर्याप्त नहीं था. हम कम-से-कम ईंधन या ऊर्जा में अपना काम चलाना चाहते थे. इसलिए हमने सब्जी बनाने की जगह चटनी से काम चलाया. लेकिन ये उपाय पौष्टिकता और स्वादिष्ट होने से भरपूर लगा।

मेरे एक रूममेट ने पुणे से जाॅब छोड़ दिया क्योंकि उसे 15 मार्च को डब्ल्यूएफएच की अनुमति मिली थी। तब से हम में से केवल तीन ही लाॅकडाउन के बीच जीवित रहने का प्रबंधन कर रहे थे। हम अपने गृहनगर भोपाल की यात्रा करने की उम्मीद कर रहे थे और योजना बनाने लगे कि जैसे ही पहली तालाबंदी समाप्त होगी। हम पूणे से निकल लंेगे, लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया, हमने लाॅकडाउन के विभिन्न चरणों को देखा, प्रत्येक में कठिनाइयों का एक नया सेट आया और घर जाने की हमारी उम्मीद कम होती गई।

चिलचिलाती गर्मी, गर्म पानी, अपर्याप्त भोजन और काम के अतिभारित तनाव ने हमारे जीवन को दयनीय बना दिया। प्रत्येक दिन एक नई चुनौती के साथ आया, दिन के अंत में, ऐसा लगा जैसे हमने एक उपलब्धि हासिल की है। हम तीनों में से एक 30 दिनों की अवधि के भीतर दो बार बीमार पड़ गया। हालांकि हमें वर्कफ्राॅम होम की अनुमति मिल गई, जो कुछ हद तक हमें राहत देने वाला कदम था, लेकिन बाकी दिन-रात माता-पिता के बिना गुजारना एक अनजान शहर में मुश्किल लगने लगा। हमारा एक साथी एक बार असहनीय पेट दर्द से कराह उठा, उसे किसी तरह सुबह 3 बजे अस्पताल ले जा पाये। टैक्सी चालक का मोबाइल नंबर डायरी लिखना हमारे लिये लाभदायक रहा। हम बहुत सारे जंक फूड खा रहे थे और इंस्टेंट नूडल्स हमारे प्राथमिक आहार में से एक था। हफ्ते भर हो गए थे जब हममें से किसी एक को पूरी तरह से आहार मिलता था। पेट से संबंधित बीमारी होने के लिए बाध्य थे।

भोजन और किराने का सामान खरीदना हमारे लिए एक और बड़ी चुनौती थी। आस-पास कोई स्थानीय किराना स्टोर नहीं थे। यद्यपि हमने विभिन्न ऑनलाइन किराना प्लेटफ़ार्म के माध्यम से आॅनलाइन आर्डर करने की कोशिश की, लेकिन डिलीवरी के लिए न्यूनतम 7 दिन लगने का मैसेज मिलता रहा, और इस बात की कोई गारंटी नहीं थी कि हमारे द्वारा सूचीबद्ध सभी आइटम डिलीवर हो जाएंगे। हमने सबसे नजदीक के एक शाॅपिंग माॅल जाने का फैसला किया। हम जहां रह रहे थे, वहां से शाॅपिंग माॅल लगभग 1.5 किलोमीटर दूर था। हमें वहां से किराने का सामान खरीदने के लिए कुछ नियमों का पालन करना था।

पहली शनिवार की शाम को शाॅपिंग माॅल पहुंचने पर, हमें उन नियमों के बारे में पता चला। परिसर में केवल 15 लोगों को प्रवेश करने की अनुमति है, हमें टोकन दिया गया है जिसमें उस समय स्लाॅट का वर्णन किया गया है जिसमें हमें खरीदारी करने की अनुमति है और हमारा समय 9 बजे के आसपास है।

जब हम दिए गए समय पर फिर से आए। हम अंदर गए, वहां मौजूद अधिकारियों ने हमें बताया कि हमारे पास केवल 15-20 मिनट हैं जिसमें हमें केवल खाद्य पदार्थों की खरीददारी करने की अनुमति थी। हम तीनों ने हमारे द्वारा बनाई गई सूची को विभाजित किया और 15 मिनट के भीतर हम सभी आवश्यक चीजें खरीदकर बाहर आ गए। इस तरह किराने का सामान खरीदने में हमारे लिए मजेदार था, वह इसलिए भी कि हमें लगा हमने कोरोना से जंग में एक बड़ा पड़ाव जीत लिया है। हम कामयाब हो रहे थे अपनी जीवटता के साथ। किराने का जरूरी सामने मिलने पर हम कुछ उत्साहित हो गए।

दिन बीतते गए और हम इस महामारी के दौरान नई जीवन शैली के आगे झुक गए। हम अपना सिर पानी के ऊपर रख रहे थे। फिर 10 मई को हमने आशा की एक किरण देखी। हमें अपने गृहनगर वापस जाने का मौका मिला। यह एक जोखिम भरा था, लेकिन हमने यह निर्णय लिया कि हम भोपाल पहुंचने वाले हैं।

कई दिन बीत गए। इस दौरान मोबाइल पर हमारी मम्मी-पापा से बात होती तो हम अच्छे बने रहने और कोई कमी नहीं होने का बहाना बना देते ताकि मम्मी-पापा हमारी वजह से दुःखी न हों। मामा जी का भी फोन आता तो कह देते सब ठीक हैं आप अपना ध्यान रखिए। लेकिन सच्चाई ये थी कि घर में सबसे बात करने के बाद हमारी आंखें नम हो जातीं। हमारे साथी हमारी लाल आंखें और रूंआसा चेहरा साफ देख सकते, जिसे हमने मम्मी-पापा से छिपा रखा था।

भाग.2: यात्रा

एक सप्ताह एक पखवाड़े में बदल गया और ऐसे ही एक-एक दिन कर महीना बीत गया। एक दिन हमें पता चला कि हमारा एक दोस्त पुणे छोड़कर अपने गृहनगर जा रहा है। एक प्रक्रिया थी जो हम जैसे लोगों को दूसरे राज्यों में फंसे अपने मूल स्थानों पर लौटने की अनुमति देगी। हमने बहुत सारी जानकारी इकट्ठा की, सभी पहलुआंे पर चर्चा की, सभी जोखिमों की गणना की कि भोपाल पहुंचने के बाद क्या होने वाला है। हमारे दिमाग में एक प्रमुख विचार यह था कि अधिकारी हमें अगले 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन केंद्र में रखेंगे, लेकिन उस संदेह को साफ कर दिया गया क्योंकि हमारे सामने पहुंचने वाले दोस्त को 14 दिनों के लिए खुद को अलग रखने के लिए घर पर रहने के लिए कहा गया था।

अगले दिन मैंने पुणे से भोपाल के लिए ई-पास के लिए आवेदन किया। मेरे पिता एक आॅटोमोबाइल कंपनी में काम करते हैं, उन्होंने ड्राइवर के साथ छह सीट वाली कार की व्यवस्था की जो हमें पुणे से बाहर निकालेगी। लेकिन इससे पहले कि हम यात्रा कर सकें, ई-पास को राज्य सरकारों द्वारा अनुमोदित किया जाना था। पास को मंजूरी मिलने के आसार बेअसर थे। हमें विभिन्न स्रोतों से पता चला कि सुरक्षित मार्ग प्राप्त करने में दो महीने तक का समय लग सकता है। हमने खुद को भाग्यशाली पाया, हमारे ई-पास को 4 दिनों के भीतर मंजूरी मिल गई। हमने अपने माता-पिता और ड्राइवर को सूचित किया। 18 मई को, चालक सुबह भोपाल से रवाना हुआ और उसी दिन सुबह 9 बजे हमारे घर पहुंचा। उसने हमारे साथ भोजन किया और कुछ घंटे आराम किया। हमने तय किया कि हम अगले दिन सुबह 3.30 बजे अपनी यात्रा शुरू करेंगे। चालक का आराम करना इसलिए आवश्यक था, क्योंकि रास्ता दुर्गम था और हमें धीरे-धीरे ही सजगता से अपने गंतव्य तक पहुंचना था। चालक को रास्ते में नींद न आए इसे लेकर हम पूरी तरह सतर्क रहे और हमने उसे भरपूर आराम करने दिया।

अगली सुबह 4 बजे, हमने यात्रा शुरू की। मैं आगे की सीट पर बैठा था। शहर सुनसान नजर आया। मैं इस समय लाॅकडाउन से पहले बाहर था, लेकिन ऐसा परिदृश्य कभी नहीं देखा गया। सड़कों पर एक भी व्यक्ति नहीं दिखाई दे रहा था। यदि भयावह अंदाज में बात करूं तो लग रहा था कोई आत्मा है ही नहीं, एक दम सुई पटक सन्नाटा तोड़ते हुए हम आगे बढ़ने लगे। हमारे मार्ग में सड़क की रुकावटें थीं, इसलिए हमें नासिक पहुँचने के लिए वैकल्पिक रास्ते आजमाने पड़े। हम पुणे में भटक गए जो लगभग एक घंटे तक एक भूत शहर की तरह महसूस हुआ। राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहुंचने से पहले एक या दो मील की दूरी पर, हम एक चेक पोस्ट पर आए, कुछ पुलिस कर्मियों ने हमसे हमारे ठिकाने के बारे में पूछा और हमें क्लीन चिट प्रदान की। भोपाल पहुंचने का अनुमानित समय अगली सुबह 8 बजे के आसपास था।

यात्रा के अगले कुछ घंटों में, मैंने वह सब कुछ देखा जो मैंने केवल समाचारों में देखा-पढ़ा था। लोगों की भीड़, हजारों लोग, बसों, ट्रैक्टरों, ट्रकों और सभी प्रकार के लोडिंग वाहनों पर लदे चले जा रहे हैं, जिसे जो साधन मिला वह उस पर सवार हो गया। इसके अलावा लोग रिक्शा, साइकिल और यहां तक कि पैदल भी चले जा रहे हैं, शहर खाली हो रहा है, जो सपने जो अरमान लेकर ये लोग यहां तक आए थे वे सब छोड़कर निकल जाना चाहते हैं लोग….किसी को रूलाई आ रही है तो कोई बार-बार पलटकर अपनी कर्मभूमि की ओर देख रहा है जैसे सूनी पनीली आंखों से कह रहा हो, अलविदा पूना…सब ठीक रहा तो फिर मिलेंगे…। जो कदम हमसे बहुत आगे थे, वे अब पीछे छूटते जा रहे थे और हम आगे बढ़ते जा रहे थे। दूधमुंह शिशुओं को गोद में लिये, छोटे बच्चों को कंधे पर बिठाये लोग, हजारों कदम उनके साथ बुजुर्ग लोग कुछ सामान, पशु और पशुधन। मैंने भारत और पाकिस्तान के विभाजन के दौरान लोगों के बड़े पैमाने पर प्रवास के बारे में इतिहास में पढ़ा था, पर कोरोना के दौरान लोगों का पलायन देखा तो कलेजा मुंह को आने लगा, दिल भर आया, जैसे कोई कुछ कह भर दे तो फूट-फूट कर रो दूं। यहां वहां नजरें दौड़ाकर स्वयं को संभाला। कारण एक ओर ये भी था कि, अब मेरे जहन में 1947 के देश के बंटवारे के समय का भयावह मंजर वर्तमान परिदृश्य से मिलकर जीवंत जो हो रहा था।

पर लगता है मुझे अभी और भी हृदय विदारक घटना का सामना करना था, जिसके लिए मैं किसी भी प्रकार से तैयार नहीं था। आगे कुछ दूर सड़क पर कुछ भीड़ लगी थी। हालांकि लोग मास्क लगाये थे और दूर-दूर भी थे, परंतु सड़क लाल थी। शायद सड़क दुर्घटना हुई। जब सड़कों पर गाड़ियां ही नहीं चल रहीं या कम चल रही हैं तब सड़क दुर्घटना मन को झकझोरने के लिए काफी थी। मैं अंदर तक हिल गया। अपने हौसले से सड़कों को नाप रहे मजदूरों के खून सड़क भी लाल हो गई। मेरे अंदर बहुत देर तक उथल-पुथल मची रही। कई प्रश्नों की झड़ी लग गई। आखिर इस सबका जिम्मेदार कौन है? ये सड़क हादसे रूकते क्यों नहीं?

हम मदद को तत्पर थे, लेकिन बहुत देर से हम यहां पहुंचे, राहत और बचाव कार्य शुरू हो गए थे और हमें एक तरफ से आगे बढ़ा दिया गया। मैंने अपने सिर को थोड़ा झटके-से हिलाया। सड़क पर आने के बाद मुझे उस स्थिति के बारे में पुनर्विचार करना पड़ा, जिसमें मैं रह रहा था। मैंने खुद को शापित कर रखा था, क्योंकि घर में रहते हुए मुझे लगा कि मैं दुख में जी रहा हूं, हालांकि मेरे पास रहने के लिए एक उचित स्थान था, पर्याप्त भोजन और पानी, बिजली, और सबसे महत्वपूर्ण बात मैं मर नहीं रहा था। इन प्रवासी श्रमिकों को शहर छोड़ने के लिए मजबूर किया गया, ये हमारे समाज की हमारे देश की ही नहीं दुनिया कि एक मजबूत ताकत है, जो हमारी जरूरत के सामान को हम तक पहुंचाने में, बनाने में सहयोग करते हैं। एक बारगी लगा कि इन्हें अपने साथ कार में बिठाकर छोड़ दिया जाए, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग और नियमों का पालन जरूरी था। इस समय बचना और बचाना दोनों जरूरी है।

कोई व्यक्ति अपने बच्चे के साथ पैदल चलकर 1500 किमी से अधिक की दूरी तय करता है। उस व्यक्ति को इस कठिन यात्रा के दौरान होने वाले परिणामों का भी एहसास नहीं हुआ। मुझे लगता है कि उनके दिमाग में केवल एक ही विचार चल रहा था, किसी तरह घर पहुंचना है, अपने गांव, अपने परिवार, परिचितों तक बस। अगर मैं अपने गृहनगर तक पैदल चलता, तो मैं शायद मर जाता। लेकिन अगर मैं वहाँ रहता, तो मैं निश्चित रूप से मर जाता।

सड़क पर जब हमने प्रवासी मजदूरों की विवशताए दुःख और तकलीफ देखी तो लगा हम घर में रहकर बेवजह छोटी.छोटी बातों पर विचलित हो रहे थे। ये प्रवासी मजदूर तो बड़ी.से.बड़ी मुश्किल में भी कैसे शांतए बगैर शिकायत या बिना किसी बैचेनी के बढ़े चले जा रहे हैं और हम घर में जरा.जरा सी बात पर झंुझला रहे थे। मन में प्रश्न उभरा क्या पढ़े.लिखे लोग या कुछ सुविधा संपन्न लोग जल्दी घबरा जाते हैंए या परेशान हो उठते हैंघ् शायदण्ण्ण्! ये शोध का विषय हो सकता है। फिलहाल मेरा मस्तिष्क तो इसका उत्तर हांॅ में ही दे रहा है।

इस तरह की कठिनाइयों के समय में, मैंने देखा कि लोग एक-दूसरे की मदद कर रहे थे। राजमार्ग पर ढाबा मालिकों ने भोजन और विश्राम का प्रबंध पूरे सेवा भाव से प्रदान किया, लोगों को हाइड्रेटेड रखने के लिए प्रत्येक 5 से 6 किमी की दूरी पर जल वितरण की व्यवस्था की गई थी। इनमें से अधिकांश सेवाएँ मुफ्त थीं। इस महामारी ने लोगों को एक स्पष्ट सबक सिखाया, एक सबक जो हम में से अधिकांश सीखने में विफल रहते हैं, कि किसी भी राशि के मुकाबले एक जीवन अधिक महत्वपूर्ण है।

दोपहर के समय जब धूप से पसीना छूटने लगा और हमने लगातार 6-7 घंटे सीधे यात्रा कर ली। तो हमने पहले से तय किये गए कार्यक्रम के अनुसार कहीं कुछ देर रूकने की सोची। हम एक पेड़ की छाँव के नीचे थोड़ा रुक गए। हमने यह भी तय किया था कि बाहर से खाना खरीदना जोखिम भरा हो सकता है, इसलिए हमने क्लासिक इंडियन ट्रैवल फूड, पूड़ी विथ एलो तैयार की। हम चारों ने अपना दोपहर का भोजन पूरा किया, खुद को बढ़ाया और अपनी यात्रा के अगले 8 घंटों के लिए स्वयं को तैयार किया। हमने एक दूसरे को फिर यही कहा कि हमें साहस के साथ-साथ अपने मन को अच्छा रखना होगा और हम इसमें कहीं हद तक सफल भी रहे।

भाग 3ः अंतिम घंटे

900 किमी से अधिक और 17 घंटे की यात्रा के बाद हम भोपाल के बाहर एक औद्योगिक शहर, मंडीदीप आ पहुँचे। उत्साह और खुशी की बढ़ी हुई मात्रा हमारे चेहरों पर साफ देखी जा सकती थी। मैं 5 महीने के बाद अपने घर, मेरी जिम्मेदारी उठाने वाले पापा और मुझे हर समय हिम्मत देने वाली मम्मी से मिलने को बढ़ रहा था, जिसमें विशेष रूप से चुनौतीपूर्ण स्थितियों के 2 महीने शामिल थे। मैंने अपनी मां को सूचित किया कि 40 मिनट में उनका इकलौता बेटा घर का बना खाना खाएगा। लाॅकडाउन के दौरान और यात्रा के दौरान हमारे सामने आने वाली सभी कठिनाइयों का अंत इस यात्रा के साथ ही समाप्त हो जाएगा। लेकिन, इसके बाद जो हुआ वह भयावह अनुभव का एक नया स्तर था।

भोपाल में प्रवेश करते समय हमें एक चेक पोस्ट पर रोका गया। पुलिसकर्मियों ने ई-पास और भोपाल आने का उद्देश्य पूछा। जैसे ही उन्हें पता चला कि हम पुणे (एक रिजेक्टेड एरिया) से आ रहे हैं, उसने हमें कार को साइड में खड़ी करने के लिए कहा। उन्होंने हमें सूचित किया कि हमें एक क्वारेंटाइन सेंटर पर ले जाया जाएगा जो 16 किमी दूर था। हम चेक अप की एक श्रृंखला के माध्यम से जा रहे हैं और कोविड-19 से संबंधित कोई लक्षण नहीं होने पर ही घर जाने की अनुमति दी जाएगी। मेरे मन में पहले से ही यह भयावह संदेह था, कि क्या होगा अगर हमें अपने अगले 14 दिन एक संगरोध केंद्र यानी क्वारेंटाइन में बिताने पड़ें। कुछ पल को लगा हाय ये क्या हुआ न इधर के रहे न उधर के। आसमान से गिरे और खजूर में अटके वाली बात चरितार्थ होने लगी।

चेकिंग के दौरान हमारा एकमात्र वाहन भी मुश्किल में आ गया। अधिकारी ने बताया कि हमें तीन और वाहनों के इकट्ठा होने तक इंतजार करना होगा। जब तक हमने अस्पताल की ओर चलना शुरू किया तब तक लगभग एक घंटा लग गया। हमें डायल 100 वाहन (पीसीआर) का पालन करना था जो हमें संगरोध केंद्र तक ले जाएगा। पीसीआर वैन एक सुस्ती की गति से आगे बढ़ रही थी। हमें एक गंतव्य तक पहुंचने में एक और लंबा समय लगा जो कहने को केवल 16 किमी दूर था, लेकिन वह 16 दिन से भी अधिक ज्यादा लग रहे थे। हम बता नहीं सकते।

हम केंद्र पर पहुंच गए और कांच के काउंटर के सामने 1 मीटर के अलावा खींची गई मंडलियों में खड़े होने के लिए कहा गया। वहां उन्होंने हमारे तापमान की जाँच की, पूछा कि क्या हम कोई दवा तो नहीं ले रहे हैं, हमसे इस बारे में पूछा कि हमारे घर में कितने कमरे हैं और परिवार में कितने लोग घर में रहते हैं। एकत्रित की गई सभी सूचनाओं के आधार पर, डाॅक्टरों ने हमें क्लीन चिट दे दी। हालांकि उन्होंने हमें अगले 14 दिनों के लिए अलग-थलग रहने के लिए एक कमरे में रहने का आदेश दिया।

हमने राहत की साँस ली और हम जल्दी से गाड़ी में चढ़े और अपने घर को एन-रूट करना शुरू किया। मेरे पहले मेरे दो दोस्त बाहर कर दिए गए थे। उनके माता-पिता उन्हें लेने के लिए अपने घरों से बाहर आए। मैं उनकी मुस्कुराहट से बता सकता हूं कि हमें जितनी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, उन्होंने सिर्फ हमारे बारे में चिंता करके उन्हें भी झेला। अंत में मेरी बारी थी। मैं घर पहुँचा और मैंने अपनी माँ को अपनी आँखों में आँसू और पिता को संतुष्टि की अभिव्यक्ति के साथ देखा। उनके चेहरों को देखते हुए मुझे पिछले 2 महीनों से उन सभी आतंक को भुला दिया गया है जिनका मैं सामना कर रहा हूं। अंत में, मैं घर में था।


सौभाग्य श्रीवास्तव
(पूणे से भोपाल)
संपर्क : 7898734994

prachi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here