कलाई में कितनी चूड़ियां (अकबर-बीरबल के किस्से)

0
3


एक बार बादशाह अकबर ने बीरबल से पूछा, ‘बीरबल, तुम दिन में अपनी पत्नी का हाथ एक या दो बार तो अवश्य ही पकड़ते होंगे। क्या तुम बता सकते हो कि तुम्हारी पत्नी की कलाई में कितनी चूड़ियां हैं?’
यह सुनकर बीरबल असमंजस में पड़ गए। उन्होंने पहले कभी पत्नी के हाथ की चूड़ियों की गिनती नहीं की थी। कुछ देर तक विचार करने के बाद बीरबल बोले, ‘जहांपनाह! मेरे हाथ का तो पत्नी के हाथों से दिन में एक-दो बार स्पर्श होता है, लेकिन आपका हाथ तो आपकी मूंछ पर दिन में दस या पांच बार तो अवश्य लगता है। भला आप ही बताएं आपकी मूंछ में कितने बाल हैं?’
बादशाह ने बात काटने की गरज से कहा, ‘मूंछ के बाल की गणना कठिन है किन्तु हाथ की चूड़ियों को गिनना संभव है।’
‘जहांपनाह! स्त्रियां अपनी पसंद के अनुसार कम अथवा ज्यादा चूड़ियां पहनती हैं। अतः निश्चित तादाद गणना किए बिना बतलाना असम्भव है।’
बीरबल मुस्कराते हुए आगे बोले, ‘अच्छा, आप जनानखाने में तो रोज जाते हैं। ऊपर पहुंचने के लिए आपको सीढियां चढ़नी पडती होंगी। क्या आप बता सकते हैं कि उस जीने में कितनी सीढ़ियां हैं?’
यह सुनकर बादशाह बोले, ‘कभी उनकी गिनती करने का अवसर ही नहीं मिला।’
तब बीरबल बोले, ‘जहांपनाह! सीढ़ियां अटल हैं। बढाई या घटाई नहीं जा सकतीं। इस पर भी आप निश्चित संख्या नहीं बता पाए तो चूडियों की तादाद ठीक-ठीक कैसे बताई जा सकती है? यदि सीढ़ियां गिनी जा सकती तो चूड़ियां न गिनने के दोषी हम थे, किन्तु जब चूड़ियों का गिना जाना संभव नहीं था तो वे कैसे गिनी जाती? उनकी संख्या कैसे बताई जा सकती है?’
यह बात सुनकर बादशाह बड़े प्रसन्न हुए।


prachi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here